Jadui Chakki Hindi Moral Story । जादुई चक्की की कहानी

jadui chakki story

Jadui Chakki Hindi Moral Story :- सभी माता पिता अपने बच्चो को अच्छी बाते और अच्छी आदते सीखना चाहते है। लेकिन ये सब इतना आसान नहीं होता, समय की कमी और भागदौड़ से भरा जीवन इसमें बड़ी रुकावट होती है। लेकिन हिंदी नैतिक कहानियाँ/Hindi Moral Story इसका अच्छा और मनोरजक समाधान हो सकती है। क्योकि बच्चो को कहानियाँ बहुत मनोरंजक लगती हैं। 

jadui chakki story

आज हम आपके लिए Jadui Chakki की कहानी सुनाने जा रहे है। जो की जीवन का एक बड़ा सबक आपको सिखाएगीं। तो चलिए Jadui Chakki की मनोरंजन से भरी दुनिया में चलते है।

 🙏Jadui Chakki की कहानी🙏

एक रामपुर नाम के गाँव में दो भाई रहते थे। बड़े भाई का नाम राजू और छोटे भाई का नाम श्याम था। परन्तु आपसी मनमुटाव के कारण दोनों अपने अपने परिवार के साथ अलग अलग रहते थे। 

two brother in jadui chakki story

राजू का परिवार बहुत ही शान-ओ-शौकत के साथ गाँव में रहता था। उसके पास रूपये पैसे, धन दौलत की कोई कमी नहीं थी। 

वही दूसरी तरफ श्याम बहुत गरीब था। और परिवार के लिए दो वक्त की रोटी का इंतजाम करना भी उसके लिए बहुत मुश्किल होता था।

एक दिन घर पर कुछ भी खाने के लिए न होने पर, श्याम की पत्नी उसे राजू के घर मदद के लिए जाने को कहती है।

जैसे ही राजू श्याम को अपने घर पर देखता है वह गुस्से से आग बबूला हो जाता है। और श्याम को बहुत भरा बुरा कहता है और उसे तुरंत वहाँ से चले जाने के लिए कहता है।

इतना सब सुन कर श्याम अपने घर के लिए लौट कर जाने लगता है। घर लौटते समय रास्ते में उसे एक बूढ़ा आदमी मिलता है।

 🙏बूढ़े आदमी की मदत🙏

वह बूढ़ा आदमी लकड़ी के एक गठ्ठे को उठाने की कोशिश कर रहा होता है। लेकिन बहुत कोशिश के बाद भी वह असफल ही रहता है। यह देखकर श्याम उसके पास जाता है और उससे मदद के लिए पूँछता है।

old man with wooden in jadui chakki story

बूढ़ा आदमी उससे अपने घर लकड़ी के उस गठ्ठे को उठकर ले जाने के लिए कहता है। मददगार स्वभाव होने के कारण श्याम लकड़ी के गठ्ठे को उठाकर अपने कंधे पर रख लेता है और बूढ़े आदमी के साथ उसके घर के लिए चल पड़ता है। रास्ते भर वह बूढ़ा आदमी श्याम के उदास चेहरे को देखता रहता है। और घर पहुँचने पर उससे उसकी उदासी का कारण पूछता है। और श्याम अपनी गरीबी से भरे जीवन के बारे में सब कुछ उस बूढ़े आदमी को बता देता है।

⭐️Jadui Chakki का करिश्मा⭐️

यह सब सुन कर बूढ़ा आदमी श्याम को एक जादुई चक्की के बारे में बताता है। और उससे कहता है की ये Jadui Chakki तुम्हारी सभी समस्या का समाधान कर देगी। लेकिन उससे पाने के लिए तुम्हे जंगल जाना होगा।

उस जंगल में तुम्हे आम के चार पेड़ मिलेंगे। उन पेड़ो के पीछे एक गुफा होगी जहाँ तीन बौने लोग रहते है। उनके पास वो जादुई चक्की है जो तुम्हारी सभी समस्या का हल कर देगी।

three dwarf of jadui chakki story

उस चक्की को पाने के लिए तुम्हे उन्हें एक मीठी रोटी देनी होगी जो की उन्हें बहुत पसंद है।

श्याम उस बूढे आदमी की बातो को बहुत ध्यान से सुनता है। और ठीक वैसा ही करता है जिससे उसे वो जादुई चक्की मिल जाती है।

चक्की को देते समय एक बौना श्याम को बताता है। कि तुम इस चक्की को घुमा कर जो कुछ भी मागोगे वह तुम्हे मिल जाऐगा। लेकिन इसे रोकने के लिए तुम्हे एक सुनहरे कपड़े से इसे पूरी तरह से ठकना होगा।

श्याम उस चक्की को घर ले आता है। और उससे वह जो कुछ भी मांगता उसे मिल जाता। उसके बाद वह चक्की को सुनहरे कपड़े से ठक देता, चक्की से मिले आटा, चावल, दाल सब कुछ वह बाजार में जा कर बेच देता और कुछ ही दिनों में वह बहुत अमीर हो जाता है।

ये सब देखकर उसका भाई राजू उससे जलने लगता है। और वह यह जानने के लिए उत्सुक हो जाता है की आखिर ये सब हुआ कैसे?

 🙏🏻लालच का परिणाम🙏🏻

एक दिन राजू छुपकर, श्याम के घर की खिड़की से सब कुछ देख लेता है। और उस जादुई चक्की को चुरा लेता है लेकिन वह जादुई चक्की को रोकने का तरीका नहीं देखता।

चक्की को चुराने के तुरंत बाद राजू अपने गाँव को छोडने की ठान लेता है। और अपने पूरे परिवार और जादुई चक्की के साथ अपने गाँव को छोड़कर जाने लगता है।

गाँव से निकलने के लिए उसे एक नदी को पार करना होता है। जिसे पार करने के लिए वह अपने परिवार के साथ एक नाव में बैठ जाता है।

लालच के कारण वह अपने आप को रोक नहीं पता और बीच नदी में ही वह चक्की को चलाकर उससे नमक मांगने लगता है। लेकिन राजू यह नहीं पता होता की उस चक्की रोकते कैसे है?

जादुई चक्की अपने स्वभाव के अनुरूप नमक देना शुरू कर देती है। और धीरे धीरे पूरी नाव में नमक ही नमक भर जाता है।

boat filled with salf in jadui chakki story

नाव में नमक द्वारा अधिक वजन हो जाने के कारण नाव नदी में डूब जाती है। जिसके साथ राजू और उसका परिवार भी नदी में डूब जाता है। इस प्रकार लालच के कारण राजू अपने साथ साथ अपने परिवार को भी नदी में ले डूबता है।

 🙏🏻Jadui Chakki की कहानी से सबक🙏🏻

इस जादुई चक्की की कहानी से हमे दो सबक सिखने को मिलते है। की हमे कभी भी

1- लालच 2- ईर्ष्या नहीं करनी चाहिए।

ईर्ष्या के कारण ही राजू अपने भाई श्याम की तरक्की से जलने लगता है। और चक्की को चुरा लेता है। उसके मन में लालच आ जाता है की अगर वो उस जादुई चक्की को किसी प्रकार हासिल कर ले तो वह और अधिक धनवान बन जाएगा। और उसका भाई श्याम फिर से पहले की तरह गरीब हो जाएगा।

लेकिन होता इसके उल्ट है जादुई चक्की को न रोक पाने के कारण पूरी नाव नमक से भर जाती है। और राजू अपने परिवार के साथ नदी में डूब जाता है।

“ इसलिए लिए बच्चो हमे जीवन में कभी भी किसी से भी ईर्ष्या नहीं करनी चाहिए। और न ही किसी वस्तु का लालच करना चाहिए। ”

IN THIS STORY ALL IMAGES TAKEN FROM HAPPY TOONS YOUTUBE CHANNEL

BEST FRIEND SHAYARI, DOSTI SHAYARI, FRIENDSHIP SHAYARI


You may also like...

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Share via
Copy link